क्या राहुल गांधी अब टिंडे लेने पंजाब आये है? या फिर यह भी अकाली नेताओं की तरह किसान आंदोलन को दिशाहीन करने की एक चाल है!

जसवंत सिंह बुट्टर स्टेट हेड पंजाब

पंजाब : किसान विरोधी कानून दिल्ली में बने हैं पंजाब में राहुल मोदी के कौन से बाग उजाड़ने आए हैं! कांग्रेस अगर सच में इस बिल के विरोध में थी तो जिस दिन बिल पास हुआ था उसके अगले दिन ही कांग्रेस को सुप्रीम कोर्ट जाना चाहिए था इन कानूनों का कांग्रेस को देश के सभी किसानों व अन्य जत्थेबंदियों से राब्ता करके एकजुटता दिखाकर विरोध क्यों नहीं कर रही? क्या कांग्रेस सरकार आने पर यह कानून रद्द होंगे? राहुल गांधी क्यों नहीं कांग्रेसी मुख्यमंत्रियों को साथ में लेकर दिल्ली के जंतर मंतर में बिठाते! सच में अगर राहुल गांधी को किसानों के साथ हमदर्दी है तो पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से वह विधानसभा इजलास बुलवाकर कानून रद्द करें यह मता पास करवाए के अगर किसी कारपोरेट घराने या उद्योगपति ने पंजाब में जमीन खरीदनी हो तो किसानों की सर्वसम्मति होनी चाहिए।
सच्चाई तो यह है कि राहुल गांधी का जमाई राबर्ट वाड्रा भी इन्हीं दोषों का सामना कर रहा है कि उसने किसानों से जमीन कौड़ियों के भाव लेकर कंपनियों को बेची हैं, इस बात का निर्णय अब किसानों को करना होगा कि क्या सच में कांग्रेस का यह प्रदर्शन किसानों के हक में है या किसानों को उनके आंदोलन को भटकाना है जैसा कि कुछ दूसरी पार्टियां भी कर रही हैं।

कुंभकरण की नींद से जागे सिद्धू, बरसाती मेंढक की तरह निकले बाहर

नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब की सियासत से कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दरकिनार कर दिया था काफी देर मौन धारण करने के बाद और पंजाब की सियासत से दूर रहने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर अपनी सियासी पारी शुरू करने जा रहे हैं , हरीश रावत से मुलाकात होने के बाद व पंजाब में राहुल गांधी के पंजाब दौरे के दौरान ट्रैक्टर रैली में नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ एक ही स्टेज पर नजर आ सकते हैं। कुछ दिनों से अटकलें चल रही थी कि नवजोत सिंह सिद्धू भाजपा में वापस जा सकते हैं लेकिन हरीश रावत की सिद्धू से मुलाकात के बाद अटकलों पर विराम लग गया है के नवजोत सिद्धू कांग्रेस पार्टी को छोड़ेंगे पिछले दोनों हरीश रावत ने कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू में पंजाब का भविष्य नजर आता है, लेकिन सोचने वाली बात है कि यह पंजाब का भविष्य पंजाब में नजर नहीं आता काफी समय से नवजोत सिंह सिद्धू ने मीडिया से भी दूरी बनाई हुई हैं उन्होंने अपना एक यूट्यूब चैनल जितेगा पंजाब शुरू किया था, पंजाब के हर मुद्दे पर अक्सर प्रतिक्रिया देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू काफी देर मौन रहे या पार्टी हाईकमान ने मौन रखा था। आने वाले समय में नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का प्रधान या डिप्टी सीएम का पद दिया जा सकता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close